पीठ की संरचना

सूचना का अधिकार

संपर्क

प्राथमिक संपर्क
ईमेलःinfo@itscdia.gov.in
दूरभाषा सं. – 011-24690693

न्यायमूर्ति के एन. वानचू

आय़कर समझौता आयोग की स्थापना केन्द्र सरकार के द्वारा वर्ष

1976 में न्यायमूर्ति के एन. वानचू समिति की अनुशंसाओं पर हुई थी।

माननीय श्री कैलाश नाथ वानचू का जन्म 25 फरवरी 1903 को हुआ था। उनकी शिक्षा प्रतिष्ठित शिक्षा संस्थानों यथा पंडित प्रीति  नाथ उच्च विद्यालय कानपुर, मूर केन्द्रीय महाविद्यालय इलाहाबाद एवं वधन(Wadhan) महाविद्यालय ऑक्सफोर्ड से हुई। उन्होंने कला स्नातक की परीक्षा इलाहाबाद से उत्तीर्ण की। उन्होंने 1924 में भारतीय सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण की एवं 1 दिसम्बर 1926 को भारतीय सिविल सेवा में शामिल हुए। उन्होंने संयुक्त मजिस्ट्रेट एवं जिला एवं सत्र न्यायधीश के रूप में उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में कार्य किया। उन्होंने फरवरी 1947 से जनवरी 1951 तक इलाहाबाद उच्च न्यायालय में न्यायधीश के रूप में कार्य किया।

वर्ष 1951-58 के दौरान उन्होंने राजस्थान उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश  के पद पर कार्य किया । 1950-51 के दौरान वे उत्तर प्रदेश न्यायायिक सुधार समिति के अध्यक्ष रहे।

फरवरी 1953 में उन्होंने आंध्र प्रदेश राज्य के नव गठन से उत्पन्न होने वाले वित्तीय एवं अन्य परिणामों (विवक्षाओँ) के संबंध में भारत सरकार को अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की।

वे इंदौर फायरिंग जांच आयोग के एकल सदस्य थे। वे धौलपुर ‘राज्यारोहन मामला (केस) आयोग’ 1955 के अध्यक्ष थे।

वे भारतीय विधि आयोग 1955 के भी सदस्य थे।

वे 12-04-1967 को भारत के मुख्य न्यायधीश नियुक्त किए गए। वे 24-02-1968 को सेवा निवृत हुए।

न्यायमूर्ति वानचू केन्द्र सरकार द्वारा गठित एक समिति के अध्यक्ष बने जिसने एक वैकल्पिक विवाद समाधान संस्थान के रूप में आयकर समझौता आयोग के गठन की अनुशंसा की। आयोग का गठन 01-04-1976 से प्रभावी हुआ।